भारतीय टीम में से गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग द्वारा क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद टीम इंडिया की ओपनर की कमान शिखर धवन ने संभाली. शिखर धवन ने ओपनर के तौर पर तेज शरुआत के साथ बाकि खिलाड़ियों के खेलने का अंदाज ही बदल दिया. इसलिए क्रिकेट दर्शक शिखर धवन को गब्बर के नाम से पुकारने लेगे.

लेकिन इस खिलाड़ी से जुड़े कुछ ऐसे रोचक तथ्य है जो हर कोई नही जानता है. तो आज हम आपको इस लेख में शिखर शवान की निजी जिंदगी से जुड़ी कुछ अहम जानकारी आपके साथ सांझा करने वाले है. तो चलिए दोस्तों जानते है गब्बर के बारे में कुछ खास बातें.

शिखर धवन का जीवन परिचय

टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज शिखर धवन का जन्म 5 दिसंबर 1985 को दिल्ली में पंजाबी परिवार में हुआ था. गब्बर के पिता का नाम महेंद्र पाल धवन और माँ का नाम सुनैना धवन है. धवन की एक छोटी बहन भी है जिनका नाम श्रेष्ठा धवन है.

गब्बर के 1 बेटा और दो बेटी भी है. शिखर धवन की पत्नी का नाम आएशा मुखर्जी है जो पेसे से किकबॉक्सर रह चुकी है. लेकिन शादी के 9 साल बाद 2021 में शिखर धवन और आयशा मुखर्जी एक दूसरे से अलग हो गए.

गब्बर की लव स्टोरी

पंजाबी परिवार में जन्मे शिखर धवन क्रिकेट के साथ-साथ एक किकबॉक्सर हसीना की गुगली से क्लीन बोर्ड हो गए. ये हसीना कोई और नही मेलबोर्न में रहने वाली आयशा मुखर्जी है. इन दोनों की मुलाक़ात टीम इंडिया के स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह ने करवाई थी.

काफी दिन डेट करने के बाद मुखर्जी और धवन ने साल 2009 में सगाई कर ली. सगाई के 3 साल बाद ये दोनों शादी के बंधन में बंध गए. वैसे जानकारी के मुताबिक़ आपको बता दूँ की धवन से उनकी पत्नी 12 साल बड़ी है.

शिखर धवन के कितने बच्चें है.

धवन ने साल 2012 में आयशा मुखर्जी से शादी की थी. उसके 2 साल बाद यानी की 2014 में जोरावर नाम के बेटे का जन्म हुआ. लेकिन आयशा मुखर्जी की शादी से पहले उनकी 2 बेटिया थी. जिनका नाम आलिया और रिया है . इन दोनों को गब्बर ने गोद लिया है.

धवन कितनें पढ़ें लिखें है?

टीम इंडिया के धाकड़ बल्लेबाज शिखर धवन ने सेंट मार्क सीनियर सेकेंडरी पब्लिक स्कूल, दिल्ली से अपनी पढाई की थी. वैसे भारतीय टीम का यह खिलाड़ी अपने पढ़ाई को 12वीं तक ही जारी रख पाया. क्रिकेट में ज्यादा समय देने के बाद धवन को आगे की पढाई करने का समय ही नही मिला.

I am Co-Founder of Trueguess.com. I am Capable to run Online Business and Now running Trueguess.com as Senior Editor.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *