retired-hurt-kya-hota-hai-retired-hurt-in-cricket

Retired Hurt Kya Hota Hai – क्रिकेट के खेल को लोग बहुत ही ज्यादा पसंद करते है. ऐसे में क्रिकेट में कुछ नियम होते है जिनके बारे में दर्शको ने नाम तो सूना होता है. लेकिन उनके इतिहास के बारे में कुछ पता नही होता है. ऐसा ही एक सवाल सभी के दिमाक में चलता रहता है की क्रिकेट में रिटायर्ड हर्ट का मतलब क्या होता है, और यह कैसे काम करता है. तो आज हम इसी के उपर चर्चा करेगे की Retired Hurt कब और कैसे काम करता है.

रिटायर्ड हर्ट क्या होता है ? Retired Hurt In Cricket

आपको बता दूँ की क्रिकेट में कोई भी बल्लेबाज कभी भी रिटायर्ड हर्ट हो सकता है. जब बल्लेबाज को खेलने में किसी प्रकार की दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है तो उस समय बल्लेबाज अंपायर को बोलकर रिटायर्ड हर्ट की अपील कर सकता है. उसके बाद उसकी जगह टीम के साथी खिलाड़ी को लाया जाता है. लेकिन जो बल्लेबाज Retired Hurt होकर गया है. वह बल्लेबाज नॉट आउट ही माना जाएगा.

Retired Hurt कब होना पड़ जाए ये किसी भी बल्लेबाज को नही पता होता है. लेकिन यह सबसे आम बात है कि अगर बल्लेबाज चोटिल या अस्वस्थ है, तो उस स्थिति में बल्लेबाज के पास अपनी पारी फिर से शुरू करने का विकल्प होता है. अगर बल्लेबाज पूरी तरह से चोट से उभर गया है तो वह मैदान में खेलने के लिए वापिस उतर सकता है. एक बल्लेबाज “रिटायर्ड आउट” भी चुना जा सकता है, लेकिन इस मामले में जब तक विरोधी कप्तान इस पर सहमति नहीं बना लेते, वे पारी की वापसी नहीं कर सकते है.

ये भी पढ़ें

BCCI क्या है ? BCCI के President और Secretary कौन है.

पहला International ODI क्रिकेट मैच खेलने वाले देशों की सूची

ODI World Cup Winners List-विश्व कप विजेताओं की सूची

Retired – not out क्या होता है ?

क्रिकेट में खेलते-खेलते कब बल्लेबाज चोटिल हो जाए ये किसी को नही पता है. अगर कोई बल्लेबाज चोटिल हो जाता है या बीमार पड़ जाता है या किसी और कारण से मैदान छोड़ना चाहता है, तो वह दूसरे बल्लेबाज के आउट होने या रिटायरमेंट के समय अपनी पारी को फिर से शुरू कर सकता है. लेकिन अगर रिटायर्ड बल्लेबाज अंत तक पूरी तरह चोट से ठीक नही हो पाता है, तो अन्य सभी बल्लेबाजों के आउट होने के बाद बल्लेबाजी पक्ष को अपनी पारी को बंद करना होगा.

यह तभी देखने को मिलता जब बल्लेबाज बुरी तरह से चोटिल हुआ हो या मैदान में उसका कोई इलाज ना हो. उस समय बल्लेबाजी पक्ष को पारी को बंद करने के अलावा कोई और विकल्प नही होता है. इस स्थिति में अगर बल्लेबाज अपनी पारी को फिर से शुरू करने में सहमत नही है तो उन्हें “रिटायर्ड – नॉट आउट के रूप में माना जाता है.

Retired out किसे कहते है ?

अगर कोई भी बल्लेबाज मैदान में खलते-खलते किसी भी कारण वश रिटायर्ड हो जाता है और अंपायर से अनुमति नही लेता है, और बल्लेबाज अपनी पारी को फिर से शुरू करने के लिए विरोधी कप्तान की अनुमति नहीं लेता है. तो उस समय बल्लेबाज को रिटायर्ड आउट दे दिया जाता है. ऐसी स्थिति में अब तक दो बल्लेबाज आउट हो चुकें है. जो की दोनों ही बल्लेबाज एक ही पारी में आउट हुए है. जिसमे श्रीलंकाई बल्लेबाज़ मारवान अटापट्टू और महेला जयवर्धने का नाम शामिल है.

लेकिन इस नियन का विरोध गॉर्डन ग्रीनिज के लिए किया गया था जो 1982-83 के भारत-वेस्टइंडीज श्रृंखला के पांचवें टेस्ट से रिटायर हो गए थे. ताकि वह अपनी मरणासन्न बेटी से मिलने जा सकें. इसी को देखतें हुए गॉर्डन ग्रीनिज आधिकारिक तौर पर “रिटायर्ड नॉट आउट” के रूप में दर्ज किया गया था.

ये भी पढ़ें

टीम इंडिया ने पहला वनडे मैच कब, कहा और किसके साथ खेला

Most Runs in ODI Without Century – वनडे क्रिकेट में बिना शतक लगाएं सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज

Fastest Centuries in T20 International Cricket

Most Retired Hurt Batsman – सबसे ज्यादा बार रिटायर्ड हर्ट होने वाले बल्लेबाज

Dilip Vengsarkar ( दिलीप वेंगसरकर )
Inzamam-ul-Haq (इंज़माम-उल-हक़ 5 बार Retired )
Bill Laurie (बिल लौरी 4 बार Retired )
Geoffrey Boycott (ज्योफ्री बायकाट 4 बार Retired )
Bert Sutcliffe (बर्ट सटक्लिफ़ 3 बार Retired )

Dilip Vengsarkar ( दिलीप वेंगसरकर )

किसी समय में टीम की रीढ़ की हड्डी माने जाने वाले दिलीप वेंगसरकर रिटायर्ड हर्ट होने के मामले में सबसे उपर है. टेस्ट इतिहास में सबसे ज्यादा बार रिटायर्ड हर्ट होने वाले खिलाड़ी के रूप में दिलीप वेंगसरकर ही जाने जाते हैं. दिलीप वेंगसरकर अपने ने 116 टेस्ट मैचों में 6868 रन निकले है. जिसमे दिलीप के 17 शतक और 35 अर्धशतक भी शामिल हैं. वहीं 129 वनडे में उन्होंने 3508 रन बनाए हैं जिसमें दिलीप वेंगसरकर के बल्ले से 1 शतक और 23 अर्धशतक निकले हैं.

Retired Out vs Retired Hurt

यह सवाल सभी क्रिकेट प्रेमियों को दुविधा में डाल देता है की Retired Out और Retired Hurt में क्या अंतर है. तो सबसे पहले आपको बता दूँ की Retired Out आखिर किसे कहते है. Retired Out का मतलब होता है की जब बल्लेबाज खेल रहा है और वो बिना अंपायर की अनुमति के मैदान से बाहर चला जाता है, तो उसे अंपायर Retired Out के तौर पर आउट देता है. इसके बाद आता है Retired Hurt, रिटायर्ड हर्ट का मतलब होता है. जब बल्लेबाज खेलते-खेलते किसी चोट या कोई और प्रॉब्लम हो जाती है और बल्लेबाज अंपायर से रिटायर्ड हर्ट की अपील करता है.

लेकिन अगर वह किसी बल्लेबाज के आउट होने के तक ठीक हो जाता है तो वह फिर से खेलने के लिए मैदान में वापसी कर सकता है. Retired Hurt का यही मतलब है की बल्लेबाज कुछ समय के लिए मैदान से बाहर जाकर फिर से मैदान में खेलने के लिए उतर सकता है.

तो दोस्तों आज आपने इस लेख के माध्यम से जाना की Retired Hurt क्या होता है. Most रिटायर्ड हर्ट होने वाले बल्लेबाज कौन-कौन से है. तो उम्मीद करता हूँ आपको यह लेख अच्छा लगा होगा. अगर आपका भी इसको लेकर कुछ सुझाव है तो नीचें कमेंट बॉक्स में दे सकते है.

I am working in news field since 2015. I done Masters in Journalism (MJMC) from Uttar Pradesh Rajarshi tandon open University, I am on the True Guess team as a Sub-Editor/Journalist.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *