टीम इंडिया के विस्फोटक बल्लेबाज और पूर्व कप्तान विराट कोहली को जब भारतीय टीम की कप्तानी दी गई उस समय टीम इंडिया के 2 धाकड़ खिलाड़ियों के करियर खतरे में पड़ गया. इन खिलाड़ियों के फिटनेस पर सवाल उठने लगे.

Also Read – एशिया कप 2022 के लिए भारत की संभावित 15 सदस्यीय टीम, इन खिलाड़ियों का खेलना तय

उसके बाद इन खिलाड़ियों को बहुत ही कम मैच खेलने को मिले. जिसके चलते यह दोनों खिलाड़ी अपनी फॉर्म से बाहर चले गए. उसके बाद इन 2 खिलाड़ियों का टीम इंडिया में फिर से वापसी करने के सभी रास्ते बंद हो चुके थे. तो चलिए दोस्तों जानते है विराट कोहली के कप्तान बनने के बाद कौन से दो तूफानी बल्लेबाज का करियर हुआ खत्म.

Also Read – राहुल द्रविड़ पर भड़के पूर्व भारतीय कप्तान श्रीकांत, मुझे नहीं चाहिए द्रविड़ की सोच

सुरेश रैना

भारतीय टीम के विस्फोटक बल्लेबाज सुरेश रैना एक अलग ही अंदाज में बल्लेबाजी करने के लिए जाने जाते थे. इस खिलाड़ी ने एसएस धोनी की कप्तानी में अपनी अपने करियर को पंख लगे था. रैना ने भारतीय टीम के लिए एक से बेहतर एक पारी खेलकर मैच को टीम इंडिया की झोली में डाले थे.

Also Read – वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज जीतने के बाद रोहित शर्मा ने इस युवा खिलाड़ी को लेकर दिया बड़ा बयान

यह खिलाड़ी मैदान में एक टाइट फील्डिंग के लिए जाना जाता था. जब तक टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी रहे उस समय रैना ने एक भी मैच बाहर बैठकर नही देखा. इस खिलाड़ी ने धोनी की कप्तानी में 228 मैच खेलने का कारनामा किया था. लेकिन जैसे ही कोहली को भारतीय टीम की कप्तानी दी गई तो रैना को सिर्फ 26 वनडे मैच खेलने का मौका दिया.

Also Read – बीसीसीआई ने कप्तानी को लेकर विराट कोहली से की बदसलूकी, अरुण धूमल ने दी सफाई

उसके बाद यह खिलाड़ी टीम में जगह बनाने के लिए तरसता रहा. लेकिन विराट कोहली ने इस खिलाड़ी की तरफ एक बार भी ध्यान नही दिया और धीरे-धीरे इस खिलाड़ी का क्रिकेट करियर खत्म हो चला गया.

युवराज सिंह

टीम इंडिया में युवराज सिंह का बहुत बड़ा नाम था क्योकि इस खिलाड़ी ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम को 2007 टी-20 वर्ल्ड कप और 2011 वनडे वर्ल्ड कप का खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी. इस खिलाड़ी ने टी20 और वनडे जैसे फोर्मेट में खलेने के अंदाज को हो बदल दिया था.

Also Read – दिनेश कार्तिक के टी20 वर्ल्ड कप में खेलने को लेकर कृष्णाचारी श्रीकांत ने दिया बड़ा बयान

युवी ने भारतीय टीम के पूर्व कप्तान एमएस धोनी की कप्तानी में बहुत ही लाजबाव प्रदर्शन किया था. इसी के साथ आपको बता दूँ की युवराज सिंह को 2007 टी-20 वर्ल्ड कप और 2011 वनडे वर्ल्ड कप में बेहतरीन प्रदर्शन करने पर मैन ऑफ द टूर्नामेंट के ख़िताब से नवाजा जगया था. धोनी की कप्तानी में युवराज सिंह को हर मैच खेलने को मिले.

Also Read – हार्दिक पांड्या ने टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में रचा इतिहास, टी20 में ऐसा करने वाले बने पहले भारतीय खिलाड़ी

लेकिन धोनी के द्वारा कप्तानी छोड़ने के बाद विराट कोहली को कप्तानी देने के बाद युवराज को इतने ज्यादा मैच खेलने का मौका नही मिला और आखिरकार इस खिलाड़ी को संन्यास लेना ही पड़ा.

Also Read – जिम्बाब्वे के खिलाफ 3 मैचों की वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, इन 2 खिलाड़ियों की टीम में वापसी

तो दोस्तों क्या आपको भी लगता है की विराट कोहली कप्तानी में युवराज सिंह और सुरेश रैना का क्रिकेट करियर बर्बाद हुआ है. आपको नही लगता की आखिर इनको और मैच खेलने के लिए दिए होते तो ये खिलाड़ी अपनी करियर को लम्बा चला सकतें थे. इसके बारे में आपका क्या कहना है आप भी अपनी राय कमेंट में दे सकते है. अगर आपको या लेख पसंद आए तो इसको ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे.

I am Founder of Trueguess.com. I am Capable to run Online Business and Now running Trueguess.com as Senior Editor.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *